ऋषिकेश

ऋषिकेश: जरूरत का सामान घर पहुंचाने की व्यवस्था हो

कोरोना वायरस की चेन तोड़ने को लागू 21 दिन के लॉकडाउन में शहर के वरिष्ठ नागरिकों को किसी तरह की दिक्कत तो नहीं आ रही। इसकी पड़ताल हिन्दुस्तान समाचार पत्र ने गुरुवार को की। वरिष्ठ नागरिकों के घर पहुंचकर उनका कुशलक्षेम जाना। साथ ही लॉकडाउन के दौरान उनके सामने आ रही दिक्कत जानने की कोशिश की। वरिष्ठ नागरिकों ने कहा कि लॉकडाउन सभी की भलाई के लिए है। इसमें थोड़ी बहुत परेशानी तो आएगी। लॉक डाउन का चौथा दिन है। फिलहाल किसी तरह की दिक्कत सामने नहीं आयी है। लॉकडाउन लंबा चलने पर आगे रोजमर्रा के सामान में कमी आ सकती है। स्थानीय सरकारी एजेंसी ऐसा हेल्पलाइन नंबर जारी करे, जिस पर फोन करते ही उनकी जरूरत का सामान घर पहुंच सके।वरिष्ठ नागरिकों की जुबानी74 वर्ष की आयु में इस तरह की माहमारी पहले कभी नहीं देखी। वरिष्ठ नागरिकों की सहायता के लिए हेल्पलाइन जारी की है, इसकी जानकारी नहीं है। फिलहाल लॉकडाउन में किसी तरह की परेशानी नहीं है।मंजू अग्रवाल, बनखंडी निवासीलॉकडाउन में आवश्यक सेवा को छोड़कर सब कुछ बंद है। काम धंधे बंद होने से आर्थिक संकट खड़ा हो सकता है। इसीलिए सरकार को वृद्धावस्था पेंशन की धनराशि को अप्रैल के पहले हफ्ते में संबंधित पात्र के बैंक खाते में डाल दें।साधुराम, गंगानगर निवासीकेंद्र सरकार और प्रदेश सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों की सहायता के लिए हेल्पलाइन बनाई है तो अच्छी पहल है। हेल्पलाइन पर संपर्क करें तो उनकी बात सुनी जाए। जरूरत का सामान घर पहुंचाने की व्यवस्था भी हो।सुरेश चंद्र शर्मा, हरिद्वार रोड निवासीपर्सनेलिटी फोटो नाम से भेजी है

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker