राष्ट्रीय ख़बरें

देश: केजरीवाल मॉडल से सीख लें दूसरी सरकारें : संजय सिंह

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के सामने अपनी सत्ता बचाने की चुनौती है। पिछले चुनाव में 67 सीटों के साथ आम आदमी पार्टी ने सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए थे। दिल्ली चुनाव के लिए आप के प्रभारी राज्यसभा सांसद संजय सिंह का दावा है कि इस बार नया रिकॉर्ड बनेगा। आप ने जनता के लिए काम किया है और यह चुनाव जनता खुद लड़ रही है। आप की रणनीति, प्रत्याशियों का चयन और चुनावी मुद्दों को लेकर संजय सिंह ने हिन्दुस्तान से बात की। प्रस्तुत हैं बातचीत के अंश…

सवाल : आप के सामने सत्ता बचाने की चुनौती है। इस बार चुनाव में क्या रणनीति होगी? 

जवाब : काम के आधार पर चुनाव लड़ा जाएगा। हमने शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, फ्लाईओवर का काम किया है। बुजुर्गों के लिए मुफ्त तीर्थ यात्रा, महिलाओं के लिए मुफ्त बस सफर की शुरुआत की। शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में बड़ा काम किया है। आप ही बताएं कौन सी सरकार शिक्षा पर बजट का 26 फीसदी खर्च कर रही है। किसानों को सबसे ज्यादा मुआवजा दिया गया है। 

सवाल : विरोधियों का दावा है कि सरकार ने काम नहीं किया। अंतिम साल में मुफ्त बिजली और मुफ्त सफर जैसी योजनाएं चलाई हैं। 

जवाब : हमने जनता के टैक्स के पैसे का सदुपयोग किया है। हम जब सरकार में आए थे तो दिल्ली का बजट 32,000 करोड़ था। आज यह बढ़कर 60 हजार करोड़ हो गया है। कैग ने भी सरकार के काम को सराहा है। अरविंद केजरीवाल सरकार का पैसा लोगों को मुफ्त बिजली देकर खर्च करते हैं। महिलाओं को मुफ्त सफर कराते हैं। वहीं, गुजरात में 190 करोड का जहाज खरीदा जाता है। हमने फरिश्ते योजना चलाई। 20 हजार नए कमरे बनाए। आजादी से 2015 तक स्कूलो में मात्र 17 हजार कमरे थे। इन सब कामों की प्रशंसा होनी चाहिए। दूसरी सरकारों को इससे सीख लेनी चाहिए।

सवाल : भाजपा और कांग्रेस भी बिजली समेत अन्य मुफ्त योजनाओं को अपनी सरकार आने पर बढ़ाने का दावा कर रही है। 

जवाब : यह पूरी तरह हास्यास्पद है। कांग्रेस 15 साल सरकार में रही, तब एक यूनिट भी मुफ्त बिजली नहीं दी। अगर अब देना चाहते हैं तो राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और पंजाब में उनकी सरकार है। यहीं भाजपा भी कहती है तो गुरुग्राम और गाजियाबाद में मुफ्त बिजली दे। यूपी और हरियाणा में भाजपा की सरकार है। चुनाव के समय झूठ बोलने से कुछ नहीं होगा। 

सवाल : नामांकन शुरू होने वाले हैं। आम आदमी पार्टी प्रत्याशियों का चयन कैसे करेगी?

जवाब : इसकी आंतरिक प्रक्रिया है। अगर किसी भी उम्मीदवार पर भ्रष्टाचार, अपराध या खराब चरित्र का आरोप है तो हम आंतरिक जांच कराएंगे। उसके बाद ही प्रत्याशियों की घोषणा होगी।

सवाल : कुछ सीटों पर विधायक चले गए हैं तो कई जगह स्थानीय विधायकों का विरोध हो रहा है। क्या कुछ विधायकों का टिकट भी कट सकता है?

जवाब : टिकट पर अंतिम फैसला पीएसी (पार्लियामेंट्री अफेयर्स कमेटी) को लेना है। 

सवाल : सीएए और एनआरसी को लेकर प्रदर्शन चल रहे हैं। आप का इस पर क्या स्टैंड है?

जवाब : हमने संसद में कहा था कि यह कानून बाबा साहेब अंबेडकर के संविधान और महात्मा गांधी के विचार के खिलाफ है। बेरोजगारी और महंगाई के मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए झूठे मुद्दों पर बहस कराई जा रही है। पुलिस नौजवानों को पीट रही है। छात्र सड़कों पर हैं। यह किस तरह की कानून व्यवस्था है। 

सवाल : बीजेपी हिंसा के लिए आप पर आरोप लगा रही है?

जवाब : जो पार्टी जगह-जगह हिंसा कराती है। वह ऐसा कह रही है। हमने दिल्ली में सबसे बड़ा आंदोलन चलाया और एक भी हिंसा की घटना नहीं हुई। हम लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं। जनता को सच्चाई का पता है। 

सवाल : दिल्ली में किससे मुकाबला मान रहे हैं?

जवाब : चुनाव जनता लड़ रही है। सभी को पता है कि पूरी दिल्ली अरविंद केजरीवाल का परिवार है। किसी से कोई मुकाबला नहीं है। परिणाम आने दीजिए। हम 2015 का भी रिकॉर्ड तोड़ देंगे। 

सवाल : छपाक फिल्म दिल्ली की घटना पर बनी है। दीपिका के जेएनयू जाने पर उनका भी विरोध होने लगा है। 

जवाब : भाजपा वाले फिल्म छपाक का विरोध कर रहे हैं। मुझे समझ नहीं आ रहा कि महिलाओं के विषय पर बनी फिल्म का विरोध क्यों किया जा रहा है, ये लोग किस तरह की फिल्म देखना चाहते हैं।

सवाल : कच्ची कॉलोनी को भाजपा बड़ा चुनावी मुद्दा बना रही है। उनका दावा है कि कच्ची कॉलोनियों का मुद्दा लंबे समय से लंबित था, जिसे भाजपा ने सुलझाया है।

जवाब : कच्ची कॉलोनी के नाम पर भाजपा झूठ बोल रही है। आप सरकार ने कच्ची कॉलोनियों का विकास किया है। उधर भाजपा बगैर कोई योजना बनाए कच्ची कॉलोनियों को नियमित करने का दावा कर रही है। 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker