राष्ट्रीय ख़बरें

देश: कोरोना से बचने के लिए ममता बनर्जी ने बताया कैसे करें सोशल डिस्टेन्सिंग

कोरोना वायरस के प्रकोप ने वैश्विक महामारी का रूप ले लिया है। इसके चलते दुनिया भर में हजारों लोगों की मौत हो चुकी है जबकि लाखों लोग इससे संक्रमित हैं। इस महामारी का अब तक ना कोई इलाज हो पाने और ना कोई वैक्सीन होने के चलते हेल्थ एक्सपर्ट इससे बचाव का सिर्फ एक ही रास्ता सुझा रहे हैं और वो है इसकी रोक।

ममता ने दिए कोरोना से बचाव के गुरु मंत्र

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी राज्य के लोगों के बीच जाकर जनता से यही कह रही हैं कि वे आपस में दूरियां बनाए रखें। गुरुवार को एक सब्जी मार्केट पहुचीं ममता ने बकायदा ईंट का टुकड़ा हाथ में लेकर सड़क पर गोला बनाया और लोगों को बताया कि इस बीमारी से बचना है तो वे सभी कम से कम इतनी दूरी तो जरूर बनाए रखें।

#WATCH West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee seen directing officials and vendors to practice social distancing, in a market in Kolkata. #COVID19 pic.twitter.com/dwkDbvcraR

— ANI (@ANI) March 26, 2020

इस वीडियो में ममता बनर्जी न सिर्फ सड़क पर गोले के निशान बनाती हुई दिख रही हैं बल्कि एक साथ कई लोगों के खड़े होने पर उन्हें बंगाली भाषा में यह हिदायत भी दे रही है कि अगर कोरोना से बचाव करना है तो बिल्कुल ऐसा ना करें।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन: जब दिल्ली से 1000 KM रिक्शा चलाकर घर निकल पड़े 5 परिवार  

राज्य सरकारों से ममता की अपील

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन में फंसे बंगालियों के लिए चिंता जाहिर की है और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देश के 18 राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा है।

ममता बनर्जी ने अपने पत्र में राज्यों के मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन में फंसे बंगालियों की देखरेख करने, खाने-पीने की व्यवस्था करने और छत मुहैया कराने की अपील की है। उन्होंने यह भी कहा है कि बंगाल में जो भी उन राज्यों के लोग फंसे हैं, पश्चिम बंगाल सरकार उनकी देखभाल करेगी।

18 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के नाम अपने पत्र में ममता बनर्जी ने कहा कि बंगाल के कामकाजी लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में हैं। लॉकडाउन की वजह से वह अपने घर वापस नहीं आ सके और अलग-अलग जगहों पर फंस गए हैं। हमें ऐसी सूचनाएं मिली हैं कि बंगाल के रहने वाले कई वर्कर्स आपके राज्यों में भी फंस गए हैं। वे 50 से 100 के समूह में हैं और स्थानीय प्रशासन द्वारा आसानी से चिन्हित किए जा सकते हैं।

ये भी पढ़ें: ओडिशा में बनेगा देश का सबसे बड़ा 1000 बेड वाला COVID-19 अस्पताल

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker