Uttarkashi

सास-बहु सम्मेलन में लोगों ने ली बेटियों के खिलाफ समाज में फैली कुरीतियों का अंत करने की शपथ

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत शनिवार को जिला प्रेक्षागृह में सास-बहू सम्मेलन का आयोजन किया गया। महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा कार्यक्रम में महिलाओं को बेटियों के महत्व के प्रति जागरूक किया गया।

शनिवार को आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ करते विधायक प्रतिनिधि हरीश सेमवाल ने बेटियों का महत्व बताया। कहा कि भारतीय संस्कृति में बेटियां हमेशा से ही खुशहाल परिवार का आधार रही हैं। जबकि मौजूदा वक्त में तो वह अब विभिन्न कार्य क्षेत्रों में भी नई बुलंदियां हासिल कर रही हैं। जिले में प्रसिद्ध पर्वतारोही बछेंद्री पाल जैसे कई उदाहरण मौजूद हैं। बाल विकास मंत्रालय के संयुक्त निदेशक डॉ केसी जार्ज ने कहा कि एक सभ्य व समृद्ध समाज की पहचान बेटियों को मिलने वाले सम्मान पर निर्भर होती है। वहीं जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के प्रति जागरूकता लाना है। ताकि समाज से बेटियों के साथ होने वाले भेदभाव सहित लिंग जांच, कन्या भ्रूण हत्या जैसी कुरीतियों का अंत किया जा सके। इस बीच कार्यक्रम में मौजूद महिलाओं को लघु फिल्म, क्वीज आदि विभिन्न रोचक गतिविधियों के माध्यम से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के प्रति जागरूक किया गया। कार्यक्रम के अंत में सभी लोगों ने बेटियों को बचाने व सुरक्षित समाज देने की शपथ ली। इस मौके पर मनोवैज्ञानिक एमकेपी पीजी कॉलेज डॉ गीता बलोदी, उप निदेशक एनआईपीडीसी डॉ रीता पटनायक, डिप्टी सीएमओ डॉ सीएस रावत, सुजाता सिंह, आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल, सहायक समाज कल्याण अधिकारी गोपाल राणा आदि लोग मौजूद रहे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close